Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।

मुक्तक

1222/1222/122
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
कि नारी शक्ति है अबला नहीं है।
बने काली तो फिर संहार करती,
फिर आगे कोई टिक सकता नहीं है।
(फिर+आगे)

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
Ravi Prakash
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
2490.पूर्णिका
2490.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
किसी को सच्चा प्यार करने में जो लोग अपना सारा जीवन लगा देते
किसी को सच्चा प्यार करने में जो लोग अपना सारा जीवन लगा देते
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
ऋतु शरद
ऋतु शरद
Sandeep Pande
जीवन का किसी रूप में
जीवन का किसी रूप में
Dr fauzia Naseem shad
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
शेखर सिंह
राना लिधौरी के बुंदेली दोहा
राना लिधौरी के बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
gurudeenverma198
मोहन वापस आओ
मोहन वापस आओ
Dr Archana Gupta
सूरज दादा
सूरज दादा
डॉ. शिव लहरी
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
Sakhawat Jisan
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
Loading...