Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

*****वो इक पल*****

वो इक पल…..

छूट गया वो पल यूँ रफ्ता
बिखरा जैसे कि टूटा पत्ता
निशां सा बाकी रह गया कहीं
शायद कुछ तो था छूटा यहीं

वो लाली झंकार अब कहाँ
स्याह सी चादर बिछी यहाँ
तन पर ओढ़े इक लबादा
भुला बिसरा कोई वादा

लब चाहते है कुछ कहना
स्वप्निल नयन अब न बहना
सिहरन सी इक भीतर थामे
हिय में अजब एषणा डाले

नभ में तो अब वही सितारें
चहुँओर है सारे नज़ारे
दामन मेरा सजा जाना
चाँदनी यहीं बिखरा देना।

✍🏾”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 2 Comments · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
Atul "Krishn"
2710.*पूर्णिका*
2710.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत  है।
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
"ख़्वाहिशें उतनी सी कीजे जो मुक़म्मल हो सकें।
*Author प्रणय प्रभात*
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
Dr fauzia Naseem shad
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
Kshma Urmila
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...