Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2023 · 1 min read

*वोटर के बड़-भाग (हास्य कुंडलिया)*

वोटर के बड़-भाग (हास्य कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■■■■■
छोटे नेता जी हुए ,वोटर के बड़-भाग
ठंडे नेता जी दिखे , वोटर जैसे आग
वोटर जैसे आग ,समझता खुद को राजा
बजती आगे बीन , रोज ही ताजा-ताजा
कहते रवि कविराय ,चरण कमलों में लोटे
चार दिवस की बात ,हुए नेता जी छोटे
●●●●●●●●●●◆●◆●◆●●●●●●●●
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
एक बनी थी शक्कर मिल
एक बनी थी शक्कर मिल
Dhirendra Singh
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
नज़्म - चांद हथेली में
नज़्म - चांद हथेली में
Awadhesh Singh
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
लू गर्मी में चलना, आफ़त लगता है।
लू गर्मी में चलना, आफ़त लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कुछ हसरतें पाल कर भी शाम उदास रहा करती है,
कुछ हसरतें पाल कर भी शाम उदास रहा करती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
ख़ुद से हमको
ख़ुद से हमको
Dr fauzia Naseem shad
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
युग अन्त
युग अन्त
Ravi Shukla
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
Loading...