Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

वैर भाव नहीं रखिये कभी

वैर भाव नहीं रखिये कभी
कहीं गांठ नहीं पड़ जाए
फटे दूध मथने पर भी कभी
मक्खन नहीं निकल पाए

पारस नाथ झा

56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
पिता
पिता
Kanchan Khanna
राज़ बता कर जाते
राज़ बता कर जाते
Monika Arora
लोकोक्तियां (Proverbs)
लोकोक्तियां (Proverbs)
Indu Singh
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोहब्बत।
मोहब्बत।
Taj Mohammad
"ताले चाबी सा रखो,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
اور کیا چاہے
اور کیا چاہے
Dr fauzia Naseem shad
*माँ : 7 दोहे*
*माँ : 7 दोहे*
Ravi Prakash
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ दोहात्मक मंगलकामनाएं।
■ दोहात्मक मंगलकामनाएं।
*प्रणय प्रभात*
इस जमाने जंग को,
इस जमाने जंग को,
Dr. Man Mohan Krishna
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
आँखों से काजल चुरा,
आँखों से काजल चुरा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
"याद आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम नादानं थे वक्त की,
तुम नादानं थे वक्त की,
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...