Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 1 min read

*वृद्धावस्था : सात दोहे*

वृद्धावस्था : सात दोहे
————————————-
1)
ढीले-ढाले हो गए, अंग-अंग के जोड़
बूढ़ापन सबसे बुरा, जीवन का यह मोड़
2)
सौ वर्षों की जिंदगी, समझो है अभिशाप
दुर्बल स्वास्थ्य सता रहा, मानव को चुपचाप
3)
पैरों से चलना कठिन, करते हाथ सवाल
कहते बूढ़े अंग हैं, खड़ा सामने काल
4)
बूढ़ेपन में वह सुखी, जिसकी दृष्टि विशाल
खोलीं जिसने मुठ्ठियॉं, उम्र देख तत्काल
5)
वृद्धावस्था आ गई, दुख यह अपरंपार
अभी नहीं तृष्णा मिटी, अभी लोभ-भंडार
6)
अनुभव के आधार पर, कहते हैं यह लोग
वृद्धावस्था देह का, सबसे भारी रोग
7)
वृद्धावस्था आ गई, मन में किंतु मलाल
अमर-तत्व पाया नहीं, पुनः आ गया काल
————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

Language: Hindi
1 Like · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Shyam Sundar Subramanian
"आय और उम्र"
Dr. Kishan tandon kranti
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
Yogendra Chaturwedi
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
दिवाली
दिवाली
Ashok deep
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
गौतम बुद्ध के विचार
गौतम बुद्ध के विचार
Seema Garg
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आज अचानक फिर वही,
आज अचानक फिर वही,
sushil sarna
पाने की आशा करना यह एक बात है
पाने की आशा करना यह एक बात है
Ragini Kumari
शिक्षक (कुंडलिया )
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
यही जिंदगी
यही जिंदगी
Neeraj Agarwal
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
Sushila joshi
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...