Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2022 · 1 min read

जीवनदाता वृक्ष

आओ मिलकर लगाए वृक्ष
संपूर्ण धरती बनाए हरित
द्रुम स्वयं लेती विषैली गैस
हमें देती प्राणदायिनी गैस
तरु स्वजन तपती स्वेद में
हमें देती छाया, शीतल, फल
राही विटप की छांव में बैठ,
खट्टे- मीठे फल इनका खाता
फिर भी लोग काट रहे रुक्ष
वृक्ष न अब हम कटने देंगे !

पर्णी से ही बढ़ती हरियाली
इनसे ही जीवन में खुशहाली
दरख्त से ही होती वृष्टि, झंझा
पावस, चौमासा से होती खेती
बारिश से होती उत्तम फसलें
प्रकृष्ट- उत्कृष्ट फसलें से होती
उमदा, उन्नत अन्न की उपज
अन्न से हम रहते खुशहाल
विटप ही हमारे जीवनदाता
यही होते हमारे सृष्टिकर्त्ता
वृक्ष न अब हम कटने देंगे !

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय बिहार

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 656 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परतंत्रता की नारी
परतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गौ माता...!!
गौ माता...!!
Ravi Betulwala
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
नवनिर्माण
नवनिर्माण
विनोद सिल्ला
2405.पूर्णिका
2405.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
Sangeeta Beniwal
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
1 jan 2023
1 jan 2023
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ लघु व्यंग्य-
■ लघु व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
प्रेम
प्रेम
Shekhar Chandra Mitra
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
वक्त से पहले
वक्त से पहले
Satish Srijan
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-413💐
💐प्रेम कौतुक-413💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ममता
ममता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बाक़ी हो ज़िंदगी की
बाक़ी हो ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...