Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Dec 2019 · 1 min read

वीर बालिका

नन्हीं-मुन्हीं वीर बालिका,
भय नाशक अरु देश सेविका ।

शीश उठाकर सीना ताने।
ये दीवाने हैं मस्ताने।
खाकी वर्दी टोपी डाले।
कांधे पर बंदूक सँभाले।
श्रम बिन्दु का लगा के टीका।
नन्हीं-मुन्हीं वीर बालिका।

एक ताल से कदम मिलाते।
आगे बढ़ते चलते जाते।
कांधे कोमल छिले हुए हैं।
पर आपस में मिले हुए हैं।
सीख रहें हैं एक सलीका।
नन्हीं-मुन्हीं वीर बालिका।

सीख रहें हैं शस्त्र चलाना।
दुश्मन को है मार भगाना।
कठिन परिश्रम करने वाले।
हँसी खुशी से ये मतवाले।
खाना खाते बिलकुल फीका।
नन्हीं-मुन्हीं वीर बालिका।

कठिन डगर है पथ पथरीले।
फिर भी नभ के पोर टटोले।
मुख से उफ़ ये कभी न कहते ।
ये संकट का चरण न गहते ।
कंटक लगते पुष्प वाटिका।
नन्हीं-मुन्हीं वीर बालिका।

वीर-सिपाही बन जायेंगी।
फिर सरहद पर ठन जायेंगी।
नित्य नवल इतिहास रचेंगी।
हिन्द देश का मान लिखेंगी।
निज हाथों में लिए तूलिका।
नन्हीं-मुन्हीं वीर बालिका।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 848 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
अयोध्या
अयोध्या
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
"परछाई"
Dr. Kishan tandon kranti
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
Neeraj Agarwal
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
Ranjeet kumar patre
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
*शत-शत नमन प्रोफेसर ओमराज*
*शत-शत नमन प्रोफेसर ओमराज*
Ravi Prakash
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
2798. *पूर्णिका*
2798. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
" नयी दुनियाँ "
DrLakshman Jha Parimal
RKASHA BANDHAN
RKASHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
सोच बदलनी होगी
सोच बदलनी होगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...