Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

वीर-जवान

जब भी आया देश में,आतंकी तूफान।
माँ की रक्षा के लिए,हुए वीर कुर्बान।।

रणभेरी बजते उठे,मोह निद्रा को त्याग।
चले वीर सन-सन करें, देश-भक्ति की आग।।

“भारत ही सर्वस्व मम”,कहकर चले सपूत।
दैत्यों का दिल हिल गया,खड़ा देख यमदूत।।

अमर मृत्यु को हाथ ले,कर्तव्यों को साज।
चले अग्नि के पंथ पर, पथिक वीर जाँबाज़।।

शीश हथेली पर लिये,चले वीर हनुमान।
रावण की लंका जली,पौरुष पुरुष महान।।

परशुराम का है परशु,रघुनंदन का वाण।
लेकर अर्जुन का धनुष,हरते रिपु का प्राण।

रण के कंकण को पहन,बाँध कफन को शीश ।
रक्त भक्त के लाडले,चक्रधारी जगदीश।।

शीश चढ़ाने को प्रथम,सौ शेरों के शेर।
मरने की हठ ठान कर,किया शत्रु को ढ़ेर।।

खड़ा सामने चीन हो,चाहे पाकिस्तान।
रिपु का सीना चीर कर, किया रक्त का पान।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
Ravi Prakash
घड़ी का इंतजार है
घड़ी का इंतजार है
Surinder blackpen
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
नयनजल
नयनजल
surenderpal vaidya
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
■ आज का शेर...।
■ आज का शेर...।
*प्रणय प्रभात*
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
इश्क़  जब  हो  खुदा  से  फिर  कहां  होश  रहता ,
इश्क़ जब हो खुदा से फिर कहां होश रहता ,
Neelofar Khan
रास्ते
रास्ते
Ritu Asooja
"गहराई में बसी है"
Dr. Kishan tandon kranti
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
आउट करें, गेट आउट करें
आउट करें, गेट आउट करें
Dr MusafiR BaithA
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
Mahendra Narayan
मन के भाव
मन के भाव
Surya Barman
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
Loading...