Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2018 · 1 min read

वीरां गाँव

ग़मगीन सूनी सारी गलियाँ,उजाड़-वीरां सारे गाँव,
कंक्रीट हृदय,उजड़ी बस्ती,नहीं शेष पेड़ों की छाँव।
निर्जन नहीं गाँव कूचे गलियाँ रिश्ते भी वीरां हुए हैं,
सुन,झूठे मुखोटों के पीछे,बस कौवों की काँव काँव।

घुट रहा नित दम दियों का,नित लूटता तम रौशनी को,
वीरां शहर, वीरां पहर,वीरां नगर, वीरां हुई है हर डगर।
नज़रें नज़ारे ढूँढती हैं,कहाँ खो दिया इंसानियत को,
घर बनें मकान पाषाण बस, कंक्रीट अब सबका जिगर।

बंजर बना वसुधा को,मानव ने बेसुध धूनी रमाई,
जंगल उपवन विध्वंस किया ज्यूँ बेवा की कलाई।
आत्महत्या दीपक हैं करते, छाया तम घर आंगना
वहीं विकास के नाम पर हो रही नीलम इंदु पर चढ़ाई।

नीलम शर्मा…✍️

Language: Hindi
2 Likes · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
VINOD CHAUHAN
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
लपवून गुलाब देणारा व्यक्ती आता सगळ्यांसमोर आपल्या साठी गजरा
लपवून गुलाब देणारा व्यक्ती आता सगळ्यांसमोर आपल्या साठी गजरा
Kanchan Alok Malu
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
सत्य कुमार प्रेमी
अंधभक्तो अगर सत्य ही हिंदुत्व ख़तरे में होता
अंधभक्तो अगर सत्य ही हिंदुत्व ख़तरे में होता
शेखर सिंह
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
प्रणय गीत
प्रणय गीत
Neelam Sharma
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
यहां लोग-बाग अपने
यहां लोग-बाग अपने "नॉटिफिकेशन" तक तो देखते नहीं। औरों की पोस
*प्रणय प्रभात*
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
Shreedhar
पढ़े-लिखे पर मूढ़
पढ़े-लिखे पर मूढ़
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
अंसार एटवी
3670.💐 *पूर्णिका* 💐
3670.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
अपने और पराए की पहचान
अपने और पराए की पहचान
Sonam Puneet Dubey
"खूबसूरत आंखें आत्माओं के अंधेरों को रोक देती हैं"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
पूर्वार्थ
एक दिवानी को हुआ, दीवाने  से  प्यार ।
एक दिवानी को हुआ, दीवाने से प्यार ।
sushil sarna
फैसला
फैसला
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...