Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

विसर्जन गीत

दर के कपाट मुँदने को हैं, अब खड़े हुए हो अर्चन को।
तुम चले पूजने वो प्रतिमा, जो तत्पर खड़ी विसर्जन को।

तुम जिसको देख रहे हो, ये कुछ पल का ताना बाना है।
मैं हूँ प्रतिमा, इस मिट्टी की, क्षण भर में फिर मिल जाना है।
ये वस्त्र, ये साज सिंगार मेरा, पानी के तल पर तैरेगा।
ये रंग, नक्श, ये रूप मेरा, तस्वीरों में रह जाना है।

और ऐसी “निर्मम बेला” में, तुम लिए खड़े हो दर्पन को।

वो दिन प्यारे अब गुजर चुके, जब मंदिर में स्थापित थी।
चढ़ते थे पुष्प हार मुझको, आरति में ही उत्साहित थी।
हो चुके भोग दुनिया भर के, दिन पूरे होने वाले हैं।
तुम तो तब आए जब मूरत, हर आसन से विस्थापित थी।

मैं निर्मित में खो जाऊँगी, दे धन्यवाद निज सर्जन को।

पर आए हो, तो मुझसे कुछ जाते-जाते लेते जाओ।
जो रही तुम्हारी पूजा में, उस की रज को छूते जाओ।
जाओ! दुनिया को बतलाना, ये दर्शन सच, या झूठा है!
सब शोक यहीं रख दो अपने, मन से हँसते-गाते जाओ!

फेंको गुलाल एक दूजे पर, कर दो पूरा इस तर्पन को।
© शिवा अवस्थी

5 Likes · 2 Comments · 104 Views
You may also like:
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*!* कच्ची बुनियाद जिन्दगी की *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌹🌺कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ, तुम्हारी याद जो है संग...
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
मानव जीवन में तर्पण का महत्व
Santosh Shrivastava
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गँउआ
श्रीहर्ष आचार्य
*दो गज दूरी नहीं रहेगी ( गीत )*
Ravi Prakash
■ आज का सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
अपनो को।
Pradyumna
खिचड़ी, लड्डू,रेबड़ी, दिल से करिए दान
Dr Archana Gupta
ये पूजा ये गायन क्या है?
AJAY AMITABH SUMAN
मेरे दिल के करीब
Dr fauzia Naseem shad
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मनवा नाचन लागे
मनोज कर्ण
घरवाली की मार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जुबां।
Taj Mohammad
आवाज़ उठा
Shekhar Chandra Mitra
इंतजार
Anamika Singh
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल /Arshad Rasool
तेरी दहलीज पर झुकता हुआ सर लगता है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
नया साल सबको मुबारक
Akib Javed
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
हर घर तिरंगा प्यारा हो - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
और न साजन तड़पाओ अब तुम
Ram Krishan Rastogi
सुनो ए दोस्त
shabina. Naaz
भूख
Varun Singh Gautam
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
Loading...