Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

विष बो रहे समाज में सरेआम

टुकड़ों में समाज को तोड़ रहे
लेकर धर्म औ जाति का नाम
स्वार्थ सिद्धि के लिए राजनेता
विष बो रहे समाज में सरेआम
ईर्ष्या, द्वेष और बैर भाव से हो
रही है सामाजिकता तार तार
पारस्परिक विश्वास का भाव
अब लोगों में मिलना दुश्वार
न जाने कब भुला बैठा समाज
पुरखों की सहजीविता का मंत्र
लाभ की खातिर रच रहे लोग
एक दूजों के खिलाफ षडयंत्र
पूंजीपतियों की कठपुतली बने
छटपटा रहे आज लोग बहुसंख्य
असलियत को समझने को तैयार
नहीं, सो झेल रहे हालात के दंश

Language: Hindi
77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Tajposhi ki rasam  ho rhi hai
Tajposhi ki rasam ho rhi hai
Sakshi Tripathi
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
यहां
यहां "ट्रेंडिंग रचनाओं" का
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
gurudeenverma198
"खतरनाक"
Dr. Kishan tandon kranti
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
क्वालिटी टाइम
क्वालिटी टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सच्चाई के रास्ते को अपनाओ,
सच्चाई के रास्ते को अपनाओ,
Buddha Prakash
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/207. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
'अशांत' शेखर
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
गीत
गीत
Shiva Awasthi
दोहे- माँ है सकल जहान
दोहे- माँ है सकल जहान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
FUSION
FUSION
पूर्वार्थ
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
सच और हकीकत
सच और हकीकत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
Loading...