Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

विष्णु प्रभाकर जी रहे,

विष्णु प्रभाकर जी रहे,
श्रेष्ठ साहित्यकार
सकल गद्य में आपने,
खूब रचा संसार
महावीर उत्तरांचली

______________________
*विष्णु प्रभाकर (21 जून 1912—11 अप्रैल 2009) हिन्दी के सुप्रसिद्ध लेखक थे जिन्होने अनेकों लघु कथाएँ, उपन्यास, नाटक तथा यात्रा संस्मरण लिखे। उनकी कृतियों में देशप्रेम, राष्ट्रवाद, तथा सामाजिक विकास मुख्य भाव हैं।

2 Likes · 408 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
"रुदाली"
Dr. Kishan tandon kranti
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
*राधा-कृष्ण मंदिर, किला कैंप, रामपुर: जिसकी प्राचीन मूर्तियॉ
*राधा-कृष्ण मंदिर, किला कैंप, रामपुर: जिसकी प्राचीन मूर्तियॉ
Ravi Prakash
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
समय भी दो थोड़ा
समय भी दो थोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
#𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
#𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
DrLakshman Jha Parimal
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
है वक़्त बड़ा शातिर
है वक़्त बड़ा शातिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
उठो पुत्र लिख दो पैगाम
उठो पुत्र लिख दो पैगाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
*प्रणय प्रभात*
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
bharat gehlot
सितमज़रीफ़ी
सितमज़रीफ़ी
Atul "Krishn"
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
शेखर सिंह
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
दोहा
दोहा
Dinesh Kumar Gangwar
माईया दौड़ी आए
माईया दौड़ी आए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गर्व की बात
गर्व की बात
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...