Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2023 · 1 min read

#विषय –रक्षा बंधन

#विषय –रक्षा बंधन
सिर्फ बंधन को विश्वास नही कहते ,
हर पल आसू को ज़ज्वात नही कहते।
किस्मत से मिले जो रिश्ते जिंदगी मे,
इसलिए उन रिश्तों मजाक नही कहते।
मिलना -जुलना ख़ुशी वाटना पर्व में ,
नफरत और ब्यग्य न बनाती धाक हैं।
शौरत और पैसे के लिए बिक जाता
हर रिश्ता यहाँ बना संस्कृति पाक हैं।
.वोह रोये तो यूँ रोये चुनरी मे चेहरे आंक
दुनिया मे दोस्ती रहती हमेशा ताक हैं।
कोई मजबूरी होगी गम दिल सिसकिया.
सिर्फ राखी बंधन ही नही यह ज़ज्वात हैं ।
जो करते रहते से अच्छा बुरा कटाक्ष हैं
अपने से खोकर मन बेबाक खुद खोजते ।
क्या सही हमारा बंधन की दुनिया बात हैं.
ये तो माँ जाई रक्त की बूंदो की एक ज़ात हैं।
रेखा मोहन पंजाब

1 Like · 1 Comment · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य की खोज में।
सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"रिश्ते टूट जाते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
2533.पूर्णिका
2533.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
कैसे लिखूं
कैसे लिखूं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
भज ले भजन
भज ले भजन
Ghanshyam Poddar
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
gurudeenverma198
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...