Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2017 · 1 min read

विश्व में माँ भारती अप्रतिम धरा

फूल टेसू के खिले हैं हो रही अरुणिम धरा
सज रहे हैं रंग होली के, हुई मधुरिम धरा

भस्म कर दो होलिका में,आज सारी नफरतें
बाँटिये मतहै न हिंदू, है नहीं मुस्लिम धरा

जाने कितनी सभ्यताएँ, है समाये कोख में
है कहीं पूरब तो होती है कहीं पश्चिम धरा

पालती है पोषती है एक सा सबको यहाँ
इसलिए तो पूज्य है संसार में अग्रिम धरा

हैं अनेकानेक संस्कृतियाँ फली फूली यहाँ
इसलिए है विश्व में माँ भारती अप्रतिम धरा

232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत  है।
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कारोबार
कारोबार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#बात_बेबात-
#बात_बेबात-
*Author प्रणय प्रभात*
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
एक बार हीं
एक बार हीं
Shweta Soni
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
*अविश्वसनीय*
*अविश्वसनीय*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे!महादेव है नमन तुम्हें,
हे!महादेव है नमन तुम्हें,
Satish Srijan
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चमकना है सितारों सा
चमकना है सितारों सा
कवि दीपक बवेजा
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
सुरसरि-सा निर्मल बहे, कर ले मन में गेह।
सुरसरि-सा निर्मल बहे, कर ले मन में गेह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
पता ना चला
पता ना चला
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...