Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2016 · 1 min read

*विश्वास*

जब विश्वास अटल होता
उजला हर इक पल होता
हर मुश्किल बनती आसां
ज़ीवन ये सफल होता
*धर्मेंद्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
312 Views
You may also like:
मेरे सपने
सूर्यकांत द्विवेदी
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
सन्त कवि रैदास पर दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐💐रसबुद्धि:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
मौसम
Surya Barman
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मृत्यु
Anamika Singh
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
✍️आसमाँ का हौसला देता है✍️
'अशांत' शेखर
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
पावस
लक्ष्मी सिंह
हिन्दू मुस्लिम समन्वय के प्रतीक कबीर बाबा
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
चश्मा
राकेश कुमार राठौर
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
तक़दीर की उड़ान
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
दुश्मनी ही तो तुमसे मैं
gurudeenverma198
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
*** " विवशता की दहलीज पर , कुसुम कुमारी....!!! "...
VEDANTA PATEL
शायरी
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
शेर
Rajiv Vishal
औरत, आज़ादी और ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
*तुम साँझ ढले चले आना*
Shashi kala vyas
चलो एक दीप मानवता का।
Taj Mohammad
Loading...