Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2022 · 1 min read

विश्वास की मंजिल

अब तो रुक ही गये,
अपनी मंजिल की छाँव में,
सुकून मिला है अब जाकर,
मिल ही गया ठहराव जब।

खुशी का एहसास जो उठा,
कितने संघर्षों के पश्चात् अब,
खोजने को मंजिल अपनी,
रुका नहीं दिन रात जब।

सुनाई जाएंगी अब सफलता की कहानी,
जिनकी कश्ती बह रही बीच मझदार में,
हौंसला न टूटे उनका भी अब,
जिन्होने संकल्प लिया है करेंगे पार तट।

सपनो की मंजिल हकीकत में है सामने,
वो हकीकत ही था खोज लिया विश्वास से,
असफलता और सफलता की विश्वास है कड़ी,
डूबना और पार पा लेना जीवन की है लड़ी।

रचनाकार –
✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश
मौदहा हमीरपुर।

4 Likes · 2 Comments · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
दिल से हमको
दिल से हमको
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ी नदी सी
पहाड़ी नदी सी
Dr.Priya Soni Khare
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
* ज़ालिम सनम *
* ज़ालिम सनम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
You call out
You call out
Bidyadhar Mantry
अजब प्रेम की बस्तियाँ,
अजब प्रेम की बस्तियाँ,
sushil sarna
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
माँ : तेरी आंचल में.....!
माँ : तेरी आंचल में.....!
VEDANTA PATEL
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
"हूक"
Dr. Kishan tandon kranti
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
Phool gufran
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
Loading...