Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

विवशता

सम्पादक महोदय ने सुझाया
रचना की धार
छुरी की तरह
सान पर चढ़ा कर
पत्थर पर घिस कर
पैनी, और पैनी, और पैनी करो

इतनी पैनी तीखी और धारदार
कि
उसकी छुअन ही
काट डाले
समाज की बुराइयों को
और फिर
फेंक दो
भीड़ में

मैं विचार मग्न हूँ
किस-किस के आवरण उतारूँगी?
आज तो
लिप्त है हमारा समाज
नैतिक पतन और भ्रष्टाचार के
भड़कीले-चमकीले आवरण में

मैं भी
कहाँ अलग हूँ उससे
चोर दरवाजे से ही सही
तलाशती हूँ सहारे
जीने के लिए
बनाती हूँ नित नई सीढ़ियाँ
दलदल से
उभरने के लिए
बेशक
हर नई सीढ़ी
मुझे दलदल में
और गहरे डुबो दे

बेशक
हर नया सहारा
छीन ले जाए मुझसे
मेरे व्यक्तित्व का एक और अंश
और बदले में
मिल जाए कोई नया दंश
जीवन भर टीसने के लिए

पड़ जाते हैं
मन की
उर्वर धरती पर जब
वेदना के बीज
और लहलहाती हैं
कविता की फसलें
जो जंग लगी मानसिकता की
खुट्टल दरातियों से भी
डर कर
सहम जाती हैं

ऐसे में
मैं कैसे चढ़ाऊँ
रचना की
छुरियों पर सान
कैसे घिसूँ उसे
कठोर
वास्तविकता के पत्थर पर?

Language: Hindi
69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-210💐
💐प्रेम कौतुक-210💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*Author प्रणय प्रभात*
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कवि दीपक बवेजा
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
"इन्तजार"
Dr. Kishan tandon kranti
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
***होली के व्यंजन***
***होली के व्यंजन***
Kavita Chouhan
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
बरसात हुई
बरसात हुई
Surya Barman
*गठरी धन की फेंक मुसाफिर, चलने की तैयारी है 【हिंदी गजल/गीतिक
*गठरी धन की फेंक मुसाफिर, चलने की तैयारी है 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
रोटियां जिनका ख़्वाब होती हैं
रोटियां जिनका ख़्वाब होती हैं
Dr fauzia Naseem shad
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उम्र निकलती है जिसके होने में
उम्र निकलती है जिसके होने में
Anil Mishra Prahari
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
Loading...