Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2016 · 1 min read

‘ विरोधरस ‘—5. तेवरी में विरोधरस — रमेशराज

—————————————————–
कवि के रूप में एक तेवरीकार के लिये ऐसा सारा वातावरण मक्कारी, छल, फरेब, ठगई से बनता है, जो खुशियों के बजाय दुःख को जनता है। तेवरीकार ऐसे वातावरण को लेकर क्षुब्ध होता है और अपने मन में ऐसे आक्रोश को संजोता है जो तेवरी में विरोध-रस का परिपक्व बनता है-
खुदकुशी कर ली हमारे प्यार ने,
डस लिये हम आपसी तकरार ने।
-दर्शन बेज़ार, ‘देश खण्डित हो न जाए’, पृ-59

कुलटा और कलंकिन, निर्लज, बता-बता कर राख किया
हमने हर दिन अबलाओं को, जला-ला कर राख किया।
भूखे पेट रखा बिन पानी, सोने जैसी काया को
और इस तरह धन लोभी ने, उसे जलाकर राख किया।
-दर्शन बेजार, ‘देश खण्डित हो न जाए’, पृ.58

मयकदों में पड़े हैं गांव के मालिक,
हो गया बरबाद हर घरबार झूठों से।
-कृष्णावतार करुण, ‘कबीर जिन्दा है’,पृ.42
————————————————————
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’ से
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001

Language: Hindi
Tag: लेख
412 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शीर्षक - सच (हमारी सोच)
शीर्षक - सच (हमारी सोच)
Neeraj Agarwal
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
देश के नौजवान
देश के नौजवान
Shekhar Chandra Mitra
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
सृजन पथ पर
सृजन पथ पर
Dr. Meenakshi Sharma
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
Slok maurya "umang"
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
कवि रमेशराज
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
Er. Sanjay Shrivastava
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
*उदघोष*
*उदघोष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शहीद (कुंडलिया)
शहीद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Writing Challenge- रेलगाड़ी (Train)
Writing Challenge- रेलगाड़ी (Train)
Sahityapedia
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...