Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2020 · 1 min read

विरह गीत

विधा -तंत्री छंद

विधान-प्रति चरण 32 मात्रायें ।
8/8/6/10 मात्राओं पर यति। दो- दो चरण समतुकांत होते हैं।
चरणांत दो गुरु (2 2) से होता है ।

पिया लौट कर, अब आ जाओ,तुम बिन घर, आँगन सूना है|
हृदय विकल हो, रोता हरपल, मन का यह, कानन सूना है|

नस-नस में तुम, दौड़ रहे हो, अंतस की, आकुलता तुम हो|
ऐसी अनबुझ, प्यास जगी है, मधुर मिलन, व्याकुलता तुम हो|
आकर शीतल, पावन कर दो,नित मूर्छित ,आनन सूना है|
पिया लौट कर, अब आ जाओ, तुम बिन घर, आँगन सूना है|

दिवस बीतता, तुम्हें सोच कर, रात स्वप्न, में तुम आते हो|
नींद खड़ी मुख, देख रही है, आँखों में, यूँ बस जाते हो|
जले रात दिन, दीपक जैसे, बाट तके, नयनन सूना है|
पिया लौट कर, अब आ जाओ, तुम बिन घर, आँगन सूना है|

पिया मिलन की, आतुर बाँहे, पुष्प खिले, कब संगम होगा |
प्राणों से हो, प्राण मिलन तब,अधरों पर, सुख सरगम होगा|
सूख गए हैं, कुसुमित धरती, भ्रमर बिना, उपवन सूना है|
पिया लौट कर,अब आ जाओ,तुम बिन घर,आँगन सूना है|

तिल-तिल करके, रोज जलाती, विरह व्यथा, मुश्किल सहना है|
तुम बिन जीवन, हवन हुआ है, तुमसे बस इतना कहना है|
धरा जेठ की, ज्यों बारिश बिन, तुम बिन यह, जीवन सूना है|
पिया लौट कर, अब आ जाओ, तुम बिन घर, आँगन सूना है|

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 1 Comment · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपना सम्मान हमें ख़ुद ही करना पड़ता है। क्योंकी जो दूसरों से
अपना सम्मान हमें ख़ुद ही करना पड़ता है। क्योंकी जो दूसरों से
Sonam Puneet Dubey
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
Neeraj Agarwal
"कुछ अइसे करव"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
फोन नंबर
फोन नंबर
पूर्वार्थ
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
मेनका की मी टू
मेनका की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
Ravi Prakash
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का  इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
कपट
कपट
Sanjay ' शून्य'
प्रकाश एवं तिमिर
प्रकाश एवं तिमिर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खुशहाल ज़िंदगी की सबसे ज़रूरी क्रिया-
खुशहाल ज़िंदगी की सबसे ज़रूरी क्रिया-"शूक्रिया।"
*प्रणय प्रभात*
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
VINOD CHAUHAN
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
अब बदला किस किस से लू जनाब
अब बदला किस किस से लू जनाब
Umender kumar
आशा
आशा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हाईकु
हाईकु
Neelam Sharma
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
3138.*पूर्णिका*
3138.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...