Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

*विभाजन-विभीषिका : दस दोहे*

विभाजन-विभीषिका : दस दोहे
—————————————-
(1)
बॅंटवारा इस देश का, हिंदू को अभिशाप
रहना पाकिस्तान में, फिर था समझो पाप
(2)
पुरखों का घर लुट गया, पैसा लुटा तमाम
देश-विभाजन में दिखा, व्यापक कत्लेआम
(3)
हिंदू था सहमा हुआ, यद्यपि अपना देश
पाकिस्तान नया बना, आतंकी परिवेश
(4)
भागे पाकिस्तान से, लेकर अपनी जान
धन-दौलत-धरती गई, गया मान-सम्मान
(5)
देश बॅंटा दो भाग में, मजहब इसका सार
हिंदू का ना-पाक में, ऐसे बंटाधार
(6)
शरणार्थी वह बन गए, जिनके निजी मकान
शोक-दिवस दुर्भाग्य था, बनना पाकिस्तान
(7)
जो भागा वह बच गया, उसकी थी तकदीर
जो पकड़ा मारा गया, बॅंटवारे की पीर
(8)
ट्रेन खचाखच थी भरी, बदहवास थे लोग
बॅटवारे का इस तरह, लिखा भाग्य में भोग
(9)
शहर पराया हो गया, छिना सनातन देश
क्रूर विभाजन ने किया, खूनी सब परिवेश
(10)
खेत गया-घर खो गया, लूटी गई दुकान
बॅंटवारे का अर्थ यह, हिंदू का नुकसान
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
..........?
..........?
शेखर सिंह
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
अमर शहीद भगत सुखदेव राजगुरू
अमर शहीद भगत सुखदेव राजगुरू
Satish Srijan
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
3285.*पूर्णिका*
3285.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
*तपसी वेश सिया का पाया (कुछ चौपाइयॉं)*
*तपसी वेश सिया का पाया (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
"लेकिन"
Dr. Kishan tandon kranti
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
मछली रानी
मछली रानी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
मां
मां
Manu Vashistha
प्रभु राम अवध वापस आये।
प्रभु राम अवध वापस आये।
Kuldeep mishra (KD)
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
मेरी सादगी को देखकर सोचता है जमाना
मेरी सादगी को देखकर सोचता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...