Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2022 · 1 min read

विपक्ष की लापरवाही

जब उनकी ही अदालत है
जब उनका ही अख़बार है!
उन्हें कौन टक्कर देगा यहां
जब उनकी ही सरकार है!!
अपने सेफ़्टी ज़ोन में बैठा
ट्विट-ट्विट जो खेल रहा!
उस विपक्ष से कोई उम्मीद
अब रखनी ही बेकार है!!
#RJD #Opposition #ASP
#SupremeCourtOfIndia
#सपा #बसपा #EWS #JDU
#Casteist_Collegium #EVM

Language: Hindi
1 Like · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*प्रबल हैं भाव भक्तों के, प्रभु-दर्शन जो आते हैं (मुक्तक )*
*प्रबल हैं भाव भक्तों के, प्रभु-दर्शन जो आते हैं (मुक्तक )*
Ravi Prakash
पद्मावती पिक्चर के बहाने
पद्मावती पिक्चर के बहाने
Manju Singh
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
Adha Deshwal
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
**मातृभूमि**
**मातृभूमि**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
प्रभु राम अवध वापस आये।
प्रभु राम अवध वापस आये।
Kuldeep mishra (KD)
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Satish Srijan
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
पूर्वार्थ
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*प्रणय प्रभात*
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
"कइसन जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम जीवन धन गया।
प्रेम जीवन धन गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
Rekha Drolia
हवस
हवस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...