Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2023 · 1 min read

विपक्ष आत्मघाती है

सत्यानाशी है विपक्ष!
सर्वनाशी है विपक्ष!!
रेत में शुतुरमुर्ग-सा
आत्मघाती है विपक्ष!!
विपक्ष जब जितना ही नहीं चाहता तो जनता उसे क्या जिताएगी? भाजपा या आरएसएस नहीं, विपक्ष ख़ुद ही अपना दुश्मन है। वह मौक़ा देखकर चौका लगाने का हुनर नहीं जानता। लानत है!
#राजनीति #opposition #politics
#हल्लाबोल #लखन_कुमार_सिंह
#शेखर_चंद्र_मित्रा #सियासत #विपक्षीदल

Language: Hindi
261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
VEDANTA PATEL
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
विकास
विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
फागुन
फागुन
पंकज कुमार कर्ण
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
💐 Prodigy Love-5💐
💐 Prodigy Love-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
Taj Mohammad
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
1...
1...
Kumud Srivastava
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
*लय में होता है निहित ,जीवन का सब सार (कुंडलिया)*
*लय में होता है निहित ,जीवन का सब सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
Phool gufran
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...