Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2024 · 1 min read

प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।

#विधा:- गीत
#दिनांक :- २८/०२/२०२४
______________________________________________
नभ में घोर बदरिया छाई, देख धूर्त लेते अँगड़ाई।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।।

मान जिन्हें परमेश्वर पूजा,
लगे वहीं अब दूजा- दूजा।
अंध वासना का बन बैठा,
हर नारी लगती है चूजा।
बाज़ारू निष्ठा बन बैठी,
मोल लगा है आना पाई।

प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।।

चलो देख अब दायें बायें,
ऊपर नीचे बहुत जरूरी।
घात लगाए धूर्त भेड़िए,
साध करेंगे वर्ना पूरी।
देख भालकर पग धरना है,
अग्र कूप है पीछे खाई।

प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।।

समय नहीं यह राम सिया का,
कृष्ण राधिका नाम बचा है।
भ्रष्ट कुकर्मी भरे पड़े हैं,
नाम मात्र को धाम बचा है।
आज कटघरे खड़ी सुरसुरी,
जल सूखा, है कीचड़- काई।

प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
अनिल कुमार
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
मुझे विवाद में
मुझे विवाद में
*Author प्रणय प्रभात*
"मनभावन मधुमास"
Ekta chitrangini
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे पास फ़ुरसत ही नहीं है.... नफरत करने की..
मेरे पास फ़ुरसत ही नहीं है.... नफरत करने की..
shabina. Naaz
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
Loading...