Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

*विधाता छंद*मापनी-1222 1222 1222 1222

ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले
मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले
प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता
वैर को अपने सदा ही तू भुलाना सीख ले
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

1037 Views
You may also like:
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
अनमोल राजू
Anamika Singh
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
पिता का दर्द
Nitu Sah
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Meenakshi Nagar
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
मेरे साथी!
Anamika Singh
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
Loading...