Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

*विधाता छंद*मापनी-1222 1222 1222 1222

ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले
मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले
प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता
वैर को अपने सदा ही तू भुलाना सीख ले
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1137 Views
You may also like:
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
शरद पूर्णिमा (मुक्तक)
Ravi Prakash
ਹਕੀਕਤ ਵਿੱਚ
Kaur Surinder
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
सरकारी नौकरी
Sushil chauhan
अनामिका के विचार
Anamika Singh
लिखने से रह गये
Dr fauzia Naseem shad
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मानक लाल"मनु"
पेड़ पौधों के बीच में
जगदीश लववंशी
Writing Challenge- नुकसान (Loss)
Sahityapedia
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
समाज सुधार कीजिए
Shekhar Chandra Mitra
अश्क़
Satish Srijan
लाज नहीं लूटने दूंगा
कृष्णकांत गुर्जर
💐अब क्या है?डिग्री मिल गई डीजे बजवा ले💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
जीवन एक चुनौती है
Dr. Sunita Singh
बिहार एवं बिहारी (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
'प्यारी ऋतुएँ'
Godambari Negi
मोदी-शाह जोड़ी पे दो कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खामोशियों ने हीं शब्दों से संवारा है मुझे।
Manisha Manjari
" रुढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
मेरा भारत मेरा तिरंगा
Ram Krishan Rastogi
वो ही शहर
shabina. Naaz
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
Loading...