Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

विद्यार्थी के मन की थकान

विद्यार्थी के मन की थकान
विद्यार्थी के मन की थकान,
लगातार कोशिश करने के बाद मिली हार से,
कभी-कभी होती है इतनी भारी,
जैसे पहाड़ का बोझ उठा रहा हो।
वो थक जाता है,उसे कुछ समझ नहीं आता है,
वो सोचता है कि,उसने क्या गलत किया है।
वो निराश हो जाता है,
और उसे लगता है कि,वो कभी सफल नहीं हो पाएगा।
लेकिन ऐसा नहीं है,हार मत मानो,
अपने सपनों को मत छोड़ो,और कड़ी मेहनत करते रहो।
यकीनन एक दिन,तुम सफल हो जाओगे,

और तुम्हारी थकान दूर हो जाएगी।

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
Neelam Sharma
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
जब तुम मिलीं - एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।
जब तुम मिलीं - एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।
Dhriti Mishra
💐प्रेम कौतुक-175💐
💐प्रेम कौतुक-175💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
"कैसे व्याख्या करूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
2803. *पूर्णिका*
2803. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
हम अपने प्रोफाइल को लॉक करके रखते हैं ! साइबर क्राइम के परिव
हम अपने प्रोफाइल को लॉक करके रखते हैं ! साइबर क्राइम के परिव
DrLakshman Jha Parimal
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
धड़कन धड़कन ( गीत )
धड़कन धड़कन ( गीत )
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ ग़ज़ल / मोल है साहब!!
■ ग़ज़ल / मोल है साहब!!
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
युवा अंगार
युवा अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*कुछ भूल मैं जाता रहा(हिंदी गजल/गीतिका)*
*कुछ भूल मैं जाता रहा(हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...