Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 1 min read

विद्यापति धाम

हे आदिकवि विद्यापति धाम,
स्वीकार करो शत्-शत् प्रणाम,

कविवर की निर्वाण भूमि यह,
रज-रज में यहाँ शान्ति व्याप्त है,
कण-कण में यहाँ साक्षात् शिव हैं,
यह योगभूमि विद्यापति धाम,
स्वीकार करो शत्-शत् प्रणाम।

माता गंगा के धर्मपुत्र कवि,
अंत समय मिलने को आए,
अचल हुए जब इसी भूमि पर,
अविरल माँ आई इस धाम,
स्वीकार करो शत्-शत् प्रणाम।

महादेव के अनन्य भक्त कवि,
‘उगना’ बन शिव ने की चाकरी,
गंगा में जब समाधिस्थ हुए कवि,
प्रकट हुए ‘हर’ विद्यापति धाम,
स्वीकार करो शत्-शत् प्रणाम।

उगना-महादेव रूप प्रतिष्ठित,
महिमा उनकी है चहुँओर,
भक्त जनों के हृदय विराजित,
यह पुण्य भूमि विद्यापति धाम,
स्वीकार करो शत्- शत् प्रणाम।

मौलिक व स्वरचित
डॉ. श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
5 Likes · 1 Comment · 445 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
कवि दीपक बवेजा
जाग मछेंदर गोरख आया
जाग मछेंदर गोरख आया
Shekhar Chandra Mitra
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
💐प्रेम कौतुक-533💐
💐प्रेम कौतुक-533💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
हटा 370 धारा
हटा 370 धारा
लक्ष्मी सिंह
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
Touch the Earth,
Touch the Earth,
Dhriti Mishra
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
"एक कदम"
Dr. Kishan tandon kranti
#हृदय_दिवस_पर
#हृदय_दिवस_पर
*Author प्रणय प्रभात*
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
तीन सौ वर्ष की आयु  : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
तीन सौ वर्ष की आयु : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
Ravi Prakash
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
मीठा खाय जग मुआ,
मीठा खाय जग मुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...