Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

विडम्बना की बात है कि

विडम्बना की बात है कि
बदलाव सब चाहते हैं
मगर बदलाव करना नहीं चाहते।
वजह केवल “मुफ़्तख़ोरी।”

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
नींद
नींद
Diwakar Mahto
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
दुष्यन्त 'बाबा'
अजीब हालत है मेरे दिल की
अजीब हालत है मेरे दिल की
Phool gufran
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
Harminder Kaur
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
*Author प्रणय प्रभात*
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
किसी दिन
किसी दिन
shabina. Naaz
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
Loading...