Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

विचार

विचार

आवश्यकताओं को जितना कम किया जा सकता है उतना कम करने से जीवन सुखमय हो जाता है l उसी तरह जितने कम संसाधनों में जीवन गुज़रता है उतना ही सुखमय जीवन का हर पल होता है l इसलिए व्यर्थ के संसाधनों पर खर्च ना करके उस पैसे का सही दिशा में इस्तेमाल करके दूसरों का जीवन भी सुखमय बनाया जा सकता है l

अनिल कुमार गुप्ता अंजुम

1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कि हम हुआ करते थे इश्क वालों के वाक़िल कभी,
कि हम हुआ करते थे इश्क वालों के वाक़िल कभी,
Vishal babu (vishu)
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
कविता
कविता
Vandana Namdev
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2978.*पूर्णिका*
2978.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
"आपदा"
Dr. Kishan tandon kranti
ईद की दिली मुबारक बाद
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
Happy new year 2024
Happy new year 2024
Ranjeet kumar patre
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
आज फिर।
आज फिर।
Taj Mohammad
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
आर.एस. 'प्रीतम'
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...