Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2023 · 1 min read

विचार

विचार

किसी भी कार्य को करने से पहले अपने प्रयास पर किसी भी तरह का संदेह ना करें और ना ही परिणाम की चिंता करें l क्योंकि ये दो ऐसे शत्रु हैं जो आपको दिग्भ्रमित कर सकते हैं l

अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

3 Likes · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
'अशांत' शेखर
सच तो हम और आप ,
सच तो हम और आप ,
Neeraj Agarwal
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
इंडिया में का बा ?
इंडिया में का बा ?
Shekhar Chandra Mitra
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
■ स्लो-गन बोले तो धीमी बंदूक। 😊
■ स्लो-गन बोले तो धीमी बंदूक। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
sushil sarna
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
"आइडिया"
Dr. Kishan tandon kranti
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
Kirti Aphale
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
नीरज…
नीरज…
Mahendra singh kiroula
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...