Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

विचार मंच भाग -7

पेट भर खाने को तरसता है इंसान|
नमक मिला और बात हक वाली आयी||(36)
बहुत खूबसूरत है दुनिया, आखें ही काफी नहीं इसे देखने को||(37)
अभी ज़िन्दगी भारी लग रही है?
जिन्दा रहो और दगा पाओ,न जाने कितने बेनकाब होंगे||(38)
तुम निकले थे अपना बनाने ,जहान को,
आँखों में इतनी पहचान कहाँ है?(39)
ज़िन्दगी ने दरकिनार किया है जिसे दौडाकर |
हम भी सिकन्दर हैं , किसी जमाने के||(40)
क्रमश:

2 Likes · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
3342.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3342.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
आप जब खुद को
आप जब खुद को
Dr fauzia Naseem shad
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
जा रहा है
जा रहा है
Mahendra Narayan
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
अरशद रसूल बदायूंनी
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
DrLakshman Jha Parimal
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
*प्रणय प्रभात*
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अधूरी हसरतें
अधूरी हसरतें
Surinder blackpen
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
Shweta Soni
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Loading...