Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2017 · 1 min read

** वाह दिल हमारा हो गया **

वाह दिल तुम्हारा हमारा हो गया
क्यूं मिलूं तुमसे किसी बहाने से
डर लगता क्यूं तुम्हें जमाने से
रूबरू होकर समझते नहीं दिल
एक ठोकर मारी ज़माने ने
एक होकर दिल गमाने में
दौलते है जहां- कमाने को
जीत सके तो जीत दिल को
मीत बन मन-मीत बन कर
रीत निभाने को मत प्यार कर
गीत मत लिख मुझे रिझाने को
वाह क्या बात है सनम साजन
ओ प्रिया ओ प्राण प्रिया जान
मत अंजान ओ मेरी जान मान
मत कर गुमान ना हो अनजान
वाह वाह दिल हमारा हुआ ।।
दिल भी कैसे अनकंट्रोल हुआ
जो था कभी तुम्हारा आज मेरे
दिल से दिल हारा तुम्हारा वाह
तुम्हारा दिल हमारा हो गया ।।
?मधुप बैरागी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
अरे रामलला दशरथ नंदन
अरे रामलला दशरथ नंदन
Neeraj Mishra " नीर "
वो भी थी क्या मजे की ज़िंदगी, जो सफ़र में गुजर चले,
वो भी थी क्या मजे की ज़िंदगी, जो सफ़र में गुजर चले,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3390⚘ *पूर्णिका* ⚘
3390⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
5) “पूनम का चाँद”
5) “पूनम का चाँद”
Sapna Arora
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
वचन सात फेरों का
वचन सात फेरों का
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
😊संशोधित कविता😊
😊संशोधित कविता😊
*प्रणय प्रभात*
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
sushil sarna
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"लेखनी"
Dr. Kishan tandon kranti
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रहो कृष्ण की ओट
रहो कृष्ण की ओट
Satish Srijan
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
शेखर सिंह
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
एहसास के रिश्तों में
एहसास के रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...