Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏

शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
🌹🌷🌷🙏🙏🌹🌷
हड़प्पा मोहनजोदड़ो वास्तु
कला प्रशस्त पुण्य पंथ अनमोल
विक्रमशिला नालंदा तक्षशिला
राजगीर पाटलीपुत्रा ज्ञान भारती
मंडपम यशोभूमि विश्‍वकर्मा भवन
नव संसद वीर धीर सुरमों का
प्रबोध कर्म विदेशों को लुभा रही
पथ टनल सेतु बंध सुरंग पुकारती
पथ नद्य सागर समुद्र तट तल हिन्द
नव नूतन स्मार्ट तकनीक निहारती
शुभ संकेत जग ज़हान भारती
वाणिज्य अर्थ इण्डेक्स उछालती
अवरोध ना कृति जन विचारों का
आशा तृष्णा आकांक्षा दबा नहीं
स्वच्छंद विहार विचरण अनुराग
पराधीनता प्रतिबंध गगन मुक्त है
धर्म कर्म आस्था स्वतंत्र प्रभार
असंख्य कृतियों का जीवआधार
भारत विचार ज्ञान विज्ञान दर्शन
चंद्र सूर्य गगनयान जलयान
वायुयान समुंद्र रेल नूतन ज्ञान
गांव- नगर नव विद्या संचारती
संकल्प से सिद्धी मंत्र उच्चारती
वसुधैव कुटुम्बकम् प्रसार भारती
नव प्रबुद्ध गीता ज्ञान प्रशस्त पंथ
शैल शिखर दिव्य स्वरूप
जयति जय नाद पुकारती ॥
🙏🙏 टी . पी. तरुण

1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
Paras Nath Jha
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
*Author प्रणय प्रभात*
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
नरेंद्र
नरेंद्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
घड़ी का इंतजार है
घड़ी का इंतजार है
Surinder blackpen
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आकाश मेरे ऊपर
आकाश मेरे ऊपर
Shweta Soni
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
कवि दीपक बवेजा
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
Rj Anand Prajapati
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
वो नन्दलाल का कन्हैया वृषभानु की किशोरी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
Loading...