Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

वानर

ये लगातार घूमती पृथ्वी।
लगातार मरते दिन और
लगातार क़त्ल होती रातें।

जो, अभी हूँ मैं, तो खलता मेरा होना,
मेरे बाद मेरा होना, तो क्या मेरा होना।

तिनके से पहाड़ बनकर फिर
टूट जाना, सभी चेहरे बस
पहचानते , जानता सिर्फ मेरा मैं।

बज रहा डमरू डम डग डम,
जब थक जाएगा वानर,
सो जायेगा पोटली पर।

Language: Hindi
328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
Roshani jaiswal
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-277💐
💐प्रेम कौतुक-277💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
*करिश्मा एक कुदरत का है, जो बरसात होती है (मुक्तक)*
*करिश्मा एक कुदरत का है, जो बरसात होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
#लघुकथा / #एकता
#लघुकथा / #एकता
*Author प्रणय प्रभात*
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
ज़िंदगी भी समझ में
ज़िंदगी भी समझ में
Dr fauzia Naseem shad
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
"पहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोहब्बत कर देती है इंसान को खुदा।
मोहब्बत कर देती है इंसान को खुदा।
Surinder blackpen
बुद्ध को है नमन
बुद्ध को है नमन
Buddha Prakash
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
***संशय***
***संशय***
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...