Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 4 min read

वाचाल पौधा।

पगडंडी पर चलते एक पौधा देखा ।
देख चलता चला ।
पौधे ने कहा हे ! मूढ़ कहा चला कर अनदेखा ।
मैने उस पौधे को देखा जो था बोलता ।
बोला झटपट वो क्या सुनो !
हे ! मानव समझ रखा है क्या अपने आप को ।
जी सकोगे बिन हवा, बिन पानी ।
बिन भू, बिन गगन, बिन अग्नि ।
क्या समझते हो विज्ञान है चमत्कारिक ।
बिन प्राकृतिक कुछ न होवे सर्व भ्रमकारिक ।
कामधेनु बिन पायस कहां ।
सो प्राकृतिक बिन कृत्रिमता कहां ।
मनु सुन कर बौखलाया ।
और बोला अपना सिर हिलाया ।
हवा तो हो देते तुम कैसे कहूं पानी ।
बोला पौधा धीरज धरकर ।
मैं न रहूं तो न बरसे पानी ।
बोला मनु पूर्ण समझाओ ।
तब तो समझे कहानी ।
रोपित करो जितना हमको उतना ही जल बरसे ।
देख पपीहा ,चातक और मोर तरसे ।
आक्सीजन बिन न होवे संवहन ।
हवा सहारे संवहन करवाऊं ।
तब जाकर मेघ सजाऊं ।
सो मैं पुरा गगन बनाऊं ।
बादल आए बादल जाए ।
जब तक मै न बरपाऊं ।
यदि बहो मै तीव्र तो जल बूंद प्रहर न पावे।
जब हो जाऊं शांत तो घन भारी जल बरसावे ।
यह सब मनु सोच रहा भरमाएं ।
और कहा उसने हे ! भाई तुमने क्या-क्या बनाए ।
सो तुमने यह भी कहा भू भी आप बनाए ।
बोला तरु से मनु भू भी हमने सजाए ।
तभी तो हम ग्रीन गोल्ड कहलाए ।
घन निर्माण कर वर्षा करवाऊं ।
तब सरिता मे पानी लहराऊं ।
पानी लहरे-फहरे किनारो को क्षत-विक्षत कर ।
मिट्टी काट-काटकर सरिता ।
बांगर, खादर जलोढ मृदा उपजाए ।
जाकर तब उत्तर मैदान बनाए ।
जिसमे ढेरो अन्न उगाए ।
सब जीव जिससे भूखे न रह पाए ।
आज जहां शैलेंद्र खड़ा है ।
टेथीज सागर वहां लहराए ।
तरणी कण-कण , क्षण -क्षण ।
मिट्टी को काट गिराए ।
तब जाकर महान हिमालय बन पाए ।
जो भीषण सर्द, शत्रु से हमे बचाए ।
मनु सुन बोला चुन ।
कैसे तुम पावक बनाए ।
बोला तरू मनु से झटपट ।
कोटि वर्ष पूर्व दब हमी भू मे ।
कोयला, खनिज तेल बनाए ।
कभी -कभी वनो मे घर्षण से लग जाय दावाग्नि ।
कहो ये मनु ये अग्नि कहां से आए ।
इसको तो हमने ही जलाए ।
इस जग मे जो भी है सर्व हमने बनाए ।
न हो हम यदि लोग छटपटा मर जाएं ।
करते हो जल का दुरुपयोग होने पर अति ।
विनाश काले विपरीत मति ।
सूखा है जहां वहां पर देखो परेशान जन नीर दुर्गति ।
कीमत समझ मे आवे किसी चीज के खोने पर ।
उसकी आवश्यकता होने पर ।
नही रहेगा नीर तो फिर क्या होवे ।
जब चिड़िया चुग गई खेत तो मतलब क्या पछतावे ।
बिन जल -जल मरोगे यदि हुए न सचेत ।
जीवन है हमी पर निर्भर ।
फिर भी हमको करते हो जर्जर ।
कुल्हाड़ी, ब्लेड से मार ।
हमको करते घायल ।
हममे भी जान है ।
हम भी रोते है हम भी हैं बेहाल ।
हे! मनु क्यों काट देते हो हमको ।
क्यों उजाङ देते हो पशु -पक्षियो के घर को ।
क्या बिगाङे हैं हम न हैं खबर ।
कुक्कू पखेरू बैठ हमपे गीत गाएं ।
मुझे हंसाएं मुझे नचाएं ।
हो न मक्षिका, भौरे तो खिले न फूल ।
पाओगे न फल मनु रहेगा उर मे शूल ।
हमे उजङने से बचाओ ।
चिपको आंदोलन को तुम और बढाओ ।
सुंदरलाल बहुगुणा सब बन जाओ ।
सबसे बुद्धिप्रद मनु आप ।
अच्छे-बुरे सभी की है तुमको भाप ।
मुझमे भी हैं प्राण और विरह -ताप ।
मुझे लगाओ जिससे जग बने खुशहाल ।
परंतु दिन -प्रतिदिन मनु आप ने किया उदास ।
अपने पैर पर स्वयं कुल्हाड़ी मारो न आप ।
सर्व है हम देने वाले ।
क्या-क्या न देते ?
हवा देते, दवा देते, मेवा देते और देते दुकूल ।
फल देते लकड़ी देते, छाया देते और देते फूल ।
जल बरसाते, भू सजाते, प्यार लुटाते ।
घन बना हरीतिमा फैलाते ।
दुकूल बने कपास रेशम एवं जूट ।
प्राप्त होते ये सब हमसे ही फूट ।
जो भी है परमाण्विक ।
थोरियम, अभ्रक हम ही बनाए ।
ये जल एवं भू मे समाए ।
हम भी है प्रकाश पुंज दिनकर के सहारे ।
उनसे ही मै और ये जग सारे ।
बोला न मनु कुछ ।
गिर गया पौधे के चरणतल ।
प्रेमाश्रु जल बहलाया निर्मल ।
बोला हम कितने है निर्दयी ।
जो समझ न पाए अपने मीत -हित को ।
दिन -प्रतिदिन क्षति पहुंचाते ।
होगा न अब ऐसा तरु भाई ।
आज मेरी बुद्धि है खुल आयी ।
अब मै न कटने दूंगा भले ही कट जाऊं ।
अब पूर्ण जीवन आपको बचाऊं ।
तामसिक प्रवृति के नर को समझाऊं ।
अति आतप जो व्याकुल होई ।
तरु छाया सुख जानइ सोई ।
तुम हो शांति के प्रतीक ।
इस धरा के जीवन के सीक ।
मनु बोला क्षमा करो हे ! तरु ।
अश्रु बहलाए ।
सबसे करता निवेदन ।
अगर काटना पड़े मुश्किल हालात मे पेङ भी तो ।
एक काटे कोटि लगाएं ।
पौधे सुन लहराएं ।
मनु को दिए आशीष ।
हे ! पुत्र पूर्ण करो ये अभियान ।
कृपा करे जगदीश ।
मर कर भी हो जाओ अमर ।
याद करे विश्व भर ।
बोला मनु अंततः ।
अपने तरु को अब हरगिज मिटा न सकाउं।
अब मै न कटने दूंगा भले ही कट जाऊं ।
पीपल, नीम, तुलसी, वट, आम्र जम्बू आदि वृक्ष उपजाऊ ।
जग को खुशहाल बनाउ और सजाउ ।
मनु आगे पगडंडी पर कदम आगे बढाएं ।
सब तरु प्रेम से स्व सिर झुकाए ।
अमर रहे मनु ईश विजय दिलाए ।

प्रकृति ईश्वर की सर्वोत्तम कृति है ।

200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
शेखर सिंह
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
ख्वाब
ख्वाब
Dinesh Kumar Gangwar
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
■ सियासी ग़ज़ल
■ सियासी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
କୁଟୀର ଘର
କୁଟୀର ଘର
Otteri Selvakumar
बेवफ़ा इश्क़
बेवफ़ा इश्क़
Madhuyanka Raj
कर लो कर्म अभी
कर लो कर्म अभी
Sonam Puneet Dubey
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
Pratibha Pandey
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का अवसान*
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का अवसान*
Ravi Prakash
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
3388⚘ *पूर्णिका* ⚘
3388⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
Dr. Man Mohan Krishna
"चिराग"
Ekta chitrangini
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...