Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

वह पढ़ता या पढ़ती है जब

वह पढ़ता या पढ़ती है जब,
प्राचीन किसी साहित्य को,
वर्तमान की सतह पर रखकर,
इतिहास की करुणा और वीरता को,
प्राचीन सभ्यता के संघर्षों को,
तो पैदा होती है क्रांति की लौ,
उसके प्राणों में फिर से।

वह देखता या देखती है जब,
अपने पर्यावरण के चमकीले रुपों को,
पर्दे के अन्दर के अल्पपारदर्शी अभिनय को,
शीशे की खिड़कियों से झांकती आँखों को,
विकसित आदमी के महकते चमन को,
तो बनने लगती है सुनहरी तस्वीर,
उसकी आँखों और सपनों में,
और दिखाई देते हैं जब उसको,
आधुनिक नाटकों के नायक,
संस्कृति और प्रगति का नेतृत्व करते हुए,
इच्छा होती है उसकी भी यह सब करने की।

मगर जंजीर है उसके पैरों में,
उसकी असफलता इसी से है,
उसको प्यार है अपने परिवार से,
उसकी खुशी उसका अरमान है,
और उसकी कमजोरी एवं मजबूरी है,
जबकि वह तो चाहता या चाहती है,
आसमान में स्वच्छंद उड़ान भरना,
सभाओं में खुलकर बोलना,
बिना चिंता के जीना जीवन।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
सावन‌ आया
सावन‌ आया
Neeraj Agarwal
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
मन की आँखें खोल
मन की आँखें खोल
Kaushal Kumar Pandey आस
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"किवदन्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
मन की गाँठें
मन की गाँठें
Shubham Anand Manmeet
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
Moin Ahmed Aazad
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
Fight
Fight
AJAY AMITABH SUMAN
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
55…Munsarah musaddas matvii maksuuf
55…Munsarah musaddas matvii maksuuf
sushil yadav
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
Aarti sirsat
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
Loading...