Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2017 · 1 min read

*वसंत गीत* ”आ नूतन कर श्रृंगार उषा”

गीत
कर हर्षित अब संसार उषा।
आ नूतन कर श्रृंगार उषा।

नभ मंडप में विस्तार वदन।
तम का कर सहचर साथ दमन।
मृदु सुषमा से महका मंजर।
आ अंबर से वसुधा के घर।
कर अभिनंदन स्वीकार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।१।।

वट मंजरि पल्लव फूलों में।
सर सरिता सागर कूलों में।
गुल पर तुहिनों के मोती धर।
वापी गिरि गव्हर स्वर्णिम कर।
दे कुदरत को निज प्यार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।२।।

वधु- वसन वसंती वदन पहन।
कर तृप्त नयन और अंतर्मन।।
सिर तरुओं सरसों का सहला।
संताप हरण कर छिटक कला।
खग कूजों की झंकार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।३।।

मदमत्त किये तरुणाई को।
आलिंगन दे अमराई को।
मधुमासी सुर्ख कपोलों को।
अधरों के छोड उसूलों को।
ले चूम मृदुल रुख्सार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।४।।

वन वीथि विहंगम कुंजों में।
लावल्य लसित मुख पुंजों में।
पधरा पग पावन डगर डगर।
आ शाख शाख आ शजर शजर।
कर स्पंदन संचार उषा।
आ नूतन कर श्रंगार उषा।।५।।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
2336.पूर्णिका
2336.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुरु मंत्र
गुरु मंत्र
Shekhar Chandra Mitra
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
नींद का चुरा लेना बड़ा क़ातिल जुर्म है
नींद का चुरा लेना बड़ा क़ातिल जुर्म है
'अशांत' शेखर
बचपन, जवानी, बुढ़ापा (तीन मुक्तक)
बचपन, जवानी, बुढ़ापा (तीन मुक्तक)
Ravi Prakash
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
उजालों के घर
उजालों के घर
Suryakant Dwivedi
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आभरण
आभरण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अमृत उद्यान
अमृत उद्यान
मनोज कर्ण
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
ज़िंदगी को इस तरह
ज़िंदगी को इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
लोकतंत्र
लोकतंत्र
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इतिहास और साहित्य
इतिहास और साहित्य
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-414💐
💐प्रेम कौतुक-414💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...