Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

** वर्षा ऋतु **

** गीतिका **
~~
झरने नाले परनाले सब, देखो खूब बहे।
वर्षा ऋतु की ऐसी मस्ती, सब ख़ामोश सहे।

नाम न लेती जब रुकने का, रिमझिम वर्षा है।
भरे हुए सब नदी सरोवर, होकर तृप्त रहे।

उछल कूद है जारी देखो, मस्ती का आलम।
झींगुर मेंढक और पपीहे, लगाते कहकहे।

पूर्व समय से वर्षा ऋतु ने, दस्तक दे दी है।
इसी हेतु मानव के देखो, सब अनुमान ढहे।

बहुत हुआ खिलवाड़ धरा से, रोक लगाएं अब।
बनें जागरुक आज सभी हम, चिंतन मनन गहे।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"जुबां पर"
Dr. Kishan tandon kranti
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
Phool gufran
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
आव्हान
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
*गुरूर जो तोड़े बानगी अजब गजब शय है*
*गुरूर जो तोड़े बानगी अजब गजब शय है*
sudhir kumar
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
🙅🙅🙅
🙅🙅🙅
*प्रणय प्रभात*
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
परहेज बहुत करते है दौलतमंदो से मिलने में हम
परहेज बहुत करते है दौलतमंदो से मिलने में हम
शिव प्रताप लोधी
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
हमारी नई दुनिया
हमारी नई दुनिया
Bindesh kumar jha
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
Loading...