Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 29, 2016 · 1 min read

वर्ण पिरामिड….

वर्ण पिरामिड में प्रथम प्रयास :

है
धूप
ही धूप
हर ओर
हुआ उजला
व्यर्थ गयी हाला
दगा दे गयी बाला

सुशील सरना

158 Views
You may also like:
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
Colourful Balloons
Buddha Prakash
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
मायके की धूप रे
Rashmi Sanjay
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
Little sister
Buddha Prakash
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H. Amin
शायरी
Dr. Alpa H. Amin
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H. Amin
✍️मी फिनिक्स...!✍️
"अशांत" शेखर
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
Loading...