Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2017 · 1 min read

वर्णिक छंद में तेवरी

गण- [राजभा राजभा राजभा राजभा ]
छंद से मिलती जुलती बहर –फ़ायलुन फ़ायलुन फ़ायलुन फ़ायलुन
………………………………………………………….
आपने नूर की क्या नदी लूट ली
गीत के नैन की रोशनी लूट ली |
क्या यही आपकी है समालोचना
शब्द के अर्थ की ज़िन्दगी लूट ली |
ऐ कहारों कहो क्या हुआ हादिसा
आपने तो नहीं पालकी लूट ली |
पांडवो आज भी आपकी भूल से
कौरवों ने सुनो द्रौपदी लूट ली |
+रमेशराज

Language: Hindi
332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सपनों का अन्त
सपनों का अन्त
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
*स्मृति: शिशुपाल मधुकर जी*
*स्मृति: शिशुपाल मधुकर जी*
Ravi Prakash
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
दुष्यन्त 'बाबा'
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
kumar Deepak "Mani"
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
प्रदीप कुमार गुप्ता
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
व्यर्थ विवाद की
व्यर्थ विवाद की
*Author प्रणय प्रभात*
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
Rj Anand Prajapati
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मरीचिका सी जिन्दगी,
मरीचिका सी जिन्दगी,
sushil sarna
Loading...