Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

वरदान दो माँ

मैं तेरी चौखट खड़ी वरदान दो माॅ ।
गिर पडूँ न लड़खड़ा,कर थाम लो माँ ।
अब तेरा कर थाम ही चलना मुझे है
थक गई हूँ चलकर अपने पाँव पे माँ।
मैं तेरी……………………….
जगत के सब ढंग रास आते नहीं माँ ।
नित उलझते व सुलझते थक गई माँ।
अब मेरी सब उलझनें तेरे द्वार पर हैं
विश्वास मेरा और तुम पर दृढ करो माँ ।
मैं तेरी………………………..
ये मन बहुत बेचैन है रमता नही माँ ।
अश्रु भी अब आँख में थमता नहीं माँ |
तेरी ज्योति सा मेरा हृदय स्थिर करो
सिर पर रखकर हाथ मुझको दृढ़ करो माँ ।

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"खूबसूरत आंखें आत्माओं के अंधेरों को रोक देती हैं"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"" *सिमरन* ""
सुनीलानंद महंत
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
"दूसरा मौका"
Dr. Kishan tandon kranti
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
प्रेम
प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
■ बेमन की बात...
■ बेमन की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
Loading...