Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*

वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)
_________________________
1
श्रृंगवेरपुर पावन आया।
गुह निषाद राजा को पाया।।
राजा ने सम्मान दिखाया।
आसन पर प्रभु को बैठाया।।
2
कहा यहीं पर डालें डेरा।
रखें मान प्रभु ऐसे मेरा।।
किंतु राम ने कब स्वीकारा।
कहा गॉंव है कब वन प्यारा।।
3
अक्षरश: है वचन निभाना।
वन का अर्थ यही वन जाना।।
केवट प्रभु का भक्त कहाया
पुण्य पैर धोने का पाया।।
4
पार उतारा बिन-उतराई।
अंगूठी कब सिय की भाई।।
इच्छा जिसमें नहीं समाई।
उसने भक्ति अलौकिक पाई।।
5
भरद्वाज मुनि ने गुण गाए।
राम-नाम के पुण्य बताए।।
जब सुमंत्र ने हठ की ठानी।
रथ में की जब आनाकानी।।
6
प्रभु ने उनको पाठ पढ़ाया।
सच का पालन धर्म बताया।।
राम लखन सीता पदगामी।
मार्ग पूछते अंतर्यामी।।
7
शिला बना आसन पर सोते।
हर्ष-बीज सब पथ पर बोते।।
गॉंव-गॉंव जब चल कर जाते ।
सभी भाग्य को बुरा बताते।।
8
कहते बुरा कर गई रानी।
करनी निष्ठुर मूढ़ न जानी।।
वन की ओर चले रघुराई ।
कोमल सिय बलशाली भाई।।
_________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

515 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
राम भजन
राम भजन
आर.एस. 'प्रीतम'
"कामदा: जीवन की धारा" _____________.
Mukta Rashmi
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गंगा सेवा के दस दिवस (प्रथम दिवस)
गंगा सेवा के दस दिवस (प्रथम दिवस)
Kaushal Kishor Bhatt
हम सृजन के पथ चलेंगे
हम सृजन के पथ चलेंगे
Mohan Pandey
मालिक मेरे करना सहारा ।
मालिक मेरे करना सहारा ।
Buddha Prakash
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
शोख लड़की
शोख लड़की
Ghanshyam Poddar
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मेरा घर
मेरा घर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"मित्रता और मैत्री"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Upasana Pandey
"भावुकता का तड़का।
*प्रणय प्रभात*
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
जब एक ज़िंदगी
जब एक ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
Ravi Prakash
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
“जब से विराजे श्रीराम,
“जब से विराजे श्रीराम,
Dr. Vaishali Verma
*शीर्षक - प्रेम ..एक सोच*
*शीर्षक - प्रेम ..एक सोच*
Neeraj Agarwal
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...