Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2018 · 1 min read

वतन के सपूत

वतन के सपूत
**************
वतन के राह में कुर्बान यहीं शबाब है।
कि तुमको बारंबार यार मेरे आदाब है।

सलामत है वतन तुमसे तुम्ही तो शान हो।
कभी हम बन सके तुम सा यही तो ख्वाब है।

वतन के नाम तुमने करदी अपनी जिंदगी।
नजर भर देख ले दुश्मन कहे शैलाब है।

तुम्हीं हो शानों शौकत मेरे हिन्दुस्तान के।
शत्रु देख तुझे कंपित कहता तेजाब है।

किया महफूज़ सबको तुम रहे वीराने में।
कि तुमने झेला हर मौसम समझ सुर्खाब है।
…….।.।…….
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
*तू कौन*
*तू कौन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
ये अश्क भी बे मौसम बरसात हो गए हैं
ये अश्क भी बे मौसम बरसात हो गए हैं
Gouri tiwari
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
..
..
*प्रणय प्रभात*
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
लगे मुझको वो प्यारा जानता है
लगे मुझको वो प्यारा जानता है
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
रंगों का बस्ता
रंगों का बस्ता
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
खुशबू सी बिखरी हैं फ़िजा
खुशबू सी बिखरी हैं फ़िजा
Sunita
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
Shweta Soni
Loading...