Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2018 · 1 min read

“वतन के लिए”

“छोड़ दी सारी खुशियाँ वतन के लिए,सरहदों पर खड़े हैं अमन के लिए,
उन बागवानों को भी ना बख्शा किसी ने,आरोप रौंदने का लगाया उसी बाग को, सिंचने को लहू बहाया जिस चमन के लिए,
मुश्किलों में भी वादे निभाते रहे जो, देशहित में अपनी जानें गंवाते रहे जो, कभी सब कुछ लुटा कर बारूदों में बिखरे, लाश भी न मिलती उनकी कफन के लिए,
छोड़ दी सारी खुशियां वतन के लिए,सरहदों पर खड़े हैं अमन के लिए,
जख्म देते हजारों मगर एक भी,पूछने वाला नहीं मरहम के लिए, मशरूफ हैं अपनी जिंदगी में सब,सैनिक मरते हैं जिनकी खुशी गम के लिए,
घर में बैठे हम कोसते हैं खुदा को,वो शिकवा नहीं करते बदलते मौसम के लिए,
छोड़ दी सारी खुशियां वतन के लिए,सरहदों पर खड़े हैं अमन के लिए,
बिलखती है माँ,सिसकती हैं बहनें,पड़ी होती है बेसुध सी बेवा कहीं,तिरंगे से लिपटी हुई लाश पहुंची,शहीद के घर जब दफन के लिए,
दर्द आलम से रूह कांप उठती है अपनी,सुन के होती हैं सच में बहुत ही हैरानी, मुहैया है शहीद के परिजन को जो सुविधा,लगे है कुछ नेता उसमें भी गबन के लिए, बेच खा गए हैं अपनी जमीर वो,बोझ हैं इंसा ये धरती गगन के लिए,
कब तक चुप रहे कुछ तो कहे, गलत है यह सहना सभी के लिए, हक़ सैनिक का सैनिक को मिल के रहे,
आगे बढ़िए अब इस पहल के लिए, आज कुर्बानियाँ दे रहे है,जो हमारे सुरक्षित कल के लिये,
छोड़ दी सारी खुशियां वतन के लिए,सरहदों पर खड़े हैं अमन के लिए।”

Language: Hindi
556 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ताउम्र रास्ते पे तो चलते रहे हम
ताउम्र रास्ते पे तो चलते रहे हम
Befikr Lafz
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
शोभा कुमारी
मिले
मिले
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
टुकड़े हुए दिल की तिज़ारत में मुनाफे का सौदा,
टुकड़े हुए दिल की तिज़ारत में मुनाफे का सौदा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
Phool gufran
*Eternal Puzzle*
*Eternal Puzzle*
Poonam Matia
सम्मान
सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*प्रणय प्रभात*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
शरद काल
शरद काल
Ratan Kirtaniya
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
" महत्ता "
Dr. Kishan tandon kranti
2665.*पूर्णिका*
2665.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
तस्मै श्री गुरवे नमः 🙏🙏
तस्मै श्री गुरवे नमः 🙏🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
बेरोजगारी की महामारी
बेरोजगारी की महामारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
Ramal musaddas saalim
Ramal musaddas saalim
sushil yadav
Loading...