Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 2 min read

वतन की बात

आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।
तुम करो मन की बात, हम करें वतन की बात।।
मिल जुल कर आओ सारे, उलझन सुलझाते हैं।
आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।।

सुना है कि अब देश से, भ्रष्टाचार मिटने वाले हैं।
खादी, खद्दर, टोपी ने, खाये खांकि के निवाले हैं।।
खून सनि वर्दी का, क्यों दाग इन्हें दिखते नही।
पेंसन का मलाई सारे, चाट अपने उदर डालें हैं।।

फिर लिहाज़ का लिहाफ ओढ़, बेशर्म मुस्कुराते हैं।
आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।।

चर्चा है जोरो पर कि, वह बासी रोटी खाते हैं।
तोड़ प्रोटोकॉल अक्सर, ऑटो से आते जाते हैं।।
आम आदमी के बीच, जो आम होना चाहते हैं।
वहीं आप अपनो के बीच, खास अपनी चलाते हैं।।

ऐसे बेईमानी के सबक, किससे सीख आते हैं।
आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।।

और कहो हिन्दू-मुस्लिम, सिक्ख-ईसाईयों का का हाल है।
खबर मिला है कि आपस मे इनका, रोज कटता बवाल है।।
एक नई पौध कट्टरता की, जबसे है फली फूली।
भाईचारा डस के उसने, किया सबको बेहाल है।।

दिखे न अपनी सुलगती, घर औरो का फूंक आते हैं।
आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।।

खा खा कर धोखा कितने, बन गए ग़ज़लकार है।
वो बेचारे पत्नी पीड़ित, रखते हास्य का भंडार है।।
पर राजनीति करे उपेक्षा, राष्ट्र की गरिमा को जब।
तो मौन हो जाते हैं क्यों, जो सच्चे कलमकार हैं।।

चलो खौफ़ को बेखौफ हो, आँखे दिखलाते हैं।
आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।।

लालच अथवा द्वेष से, नही करना चाटूकारिता।
बन राष्ट्र के सजग प्रहरी, रखें निष्पक्ष सहभागिता।।
राष्ट्रहित हेतु रखना, तुम मर्यादा चौथे स्तंम्भ का।
कभी घुटने पर न ले आना, अपनी पत्रकारिता।।

बंद कलम खोल चल, अम्बर स्याह कर आते हैं।
आओ जरा बैठो तो सही, थोड़ी देर बतियाते हैं।।

©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित १९/०९/२०२२)

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
राज्याभिषेक
राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
Dr fauzia Naseem shad
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
Neelofar Khan
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता
कविता
Shiva Awasthi
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
"आशिकी ने"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम न समझ पाओगे .....
तुम न समझ पाओगे .....
sushil sarna
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Loading...