Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2022 · 1 min read

वक्र यहां किरदार

दुनिया यह गोल
मानता है संसार
फिर भी इंसां का
वक्र यहां किरदार
मानवता को घोलकर
गटक गए धनलोभी
ऐसे में फिर अंत्येष्टि
भी बुकिंग पर होगी

Language: Hindi
181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
Neelam Sharma
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
Shubham Pandey (S P)
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बेटी हूँ माँ तेरी
बेटी हूँ माँ तेरी
Deepesh purohit
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
नींदों में जिसको
नींदों में जिसको
Dr fauzia Naseem shad
*पीछे-पीछे मौत, जिंदगी आगे-आगे (कुंडलिया)*
*पीछे-पीछे मौत, जिंदगी आगे-आगे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
Manisha Manjari
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
किस्मत भी न जाने क्यों...
किस्मत भी न जाने क्यों...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
तलाशती रहती हैं
तलाशती रहती हैं
हिमांशु Kulshrestha
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माता के नौ रूप
माता के नौ रूप
Dr. Sunita Singh
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
Shankar N aanjna
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
Loading...