Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

वक्त

वक्त

ढ़लती हुई शाम
समंदर की ख़ामोशी
समा बेफ़िकर
आलम-ए-बेहोशी,

ठहरा गया है वक्त
चांद तू भी रूक
नीमबाज़ आंखों में
छायी है मदहोशी

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
"" *मैंने सोचा इश्क करूँ* ""
सुनीलानंद महंत
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
शक
शक
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
surenderpal vaidya
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
जहां में
जहां में
SHAMA PARVEEN
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
आग पानी में भी लग सकती है
आग पानी में भी लग सकती है
Shweta Soni
मैंने खुद की सोच में
मैंने खुद की सोच में
Vaishaligoel
■एक टिकट : सौ निकट■
■एक टिकट : सौ निकट■
*प्रणय प्रभात*
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
Phool gufran
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
gurudeenverma198
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Memories
Memories
Sampada
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फूल बेजुबान नहीं होते
फूल बेजुबान नहीं होते
VINOD CHAUHAN
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
मन की गाँठें
मन की गाँठें
Shubham Anand Manmeet
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
Loading...