Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

वक्त

लगता है चलते-चलते वक्त कुछ पीछे छूट गया ,
कुछ ऐसे गुजरा की कुछ पता ही नहीं चला ,

हम कहां थे ? कहां से कहां आ गए ?
हम क्या थे ? क्या से क्या हो गए !

कुछ अपनी किस्मत, कुछ अपनी फितरत,
कुछ अपनी मर्ज़ी, कुछ ख़ुदगर्ज़ी,
कुछ अपनी अना, कुछ अपनी वफ़ा से
कुछ मा’ज़ूर , कुछ मजबूर ,
हम क्या से क्या बनकर रह गए !

ख्वाहिशें तो कुछ थीं आसमाँ छूने की ,
ख्वाबों को हक़ीक़त में बदलने की ,

पर वक्त रहते वक्त की कीमत ना पहचान पाए !
भटकते रहे सराबों में हक़ीक़त ना जान पाए !

अब कहते हैं वक्त की गर्दिश ने हमें मार दिया !
जबकि जाने- अनजाने हमनें वक्त को मार दिया।

1 Like · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
Ranjeet kumar patre
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
जीवन एक मकान किराए को,
जीवन एक मकान किराए को,
Bodhisatva kastooriya
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
बहुत उपयोगी जानकारी :-
बहुत उपयोगी जानकारी :-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
23/78.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/78.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
जीने के प्रभु जी हमें, दो पूरे शत वर्ष (कुंडलिया)
जीने के प्रभु जी हमें, दो पूरे शत वर्ष (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
" न जाने क्या है जीवन में "
Chunnu Lal Gupta
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...