Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या

वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त गुजर गया तो जिंदगी पूछेगी किया क्या

✍️Deepak saral

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
3381⚘ *पूर्णिका* ⚘
3381⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
"ऐतबार"
Dr. Kishan tandon kranti
नज़र को नज़रिए की तलाश होती है,
नज़र को नज़रिए की तलाश होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटीयां
बेटीयां
Aman Kumar Holy
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
अजदहा बनके आया मोबाइल
अजदहा बनके आया मोबाइल
Anis Shah
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
नित्य करते जो व्यायाम ,
नित्य करते जो व्यायाम ,
Kumud Srivastava
थोड़ा  ठहर   ऐ  ज़िन्दगी
थोड़ा ठहर ऐ ज़िन्दगी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छाती
छाती
Dr.Pratibha Prakash
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
■ हर दौर में एक ही हश्र।
■ हर दौर में एक ही हश्र।
*Author प्रणय प्रभात*
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
सोशल मीडिया का दौर
सोशल मीडिया का दौर
Shekhar Chandra Mitra
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
आखों में नमी की कमी नहीं
आखों में नमी की कमी नहीं
goutam shaw
Loading...