Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2016 · 1 min read

वक्त के आगे जो झुकते नहीं हैं

वक्त के आगे जो झुकते नहीं हैं।
गल्त रास्ते जो चुनते नहीं हैं।
भले विरोध मिले कुछ अपनों का भी
पर अच्छाई से पीछे हटते नहीं हैं।
खुद के हौंसलों से बड़ाते हैं कदम
हालात पर दोष वो मढ़ते नहीं हैं।
जीवन को अपने सार्थक बना कर
फिर कभी वो पीछे मुड़ते नहीं हैं।
समाज को बदलने की ताकत भी
अपने में शायद रखते वहीं हैं।।।
कामनी गुप्ता***

Language: Hindi
419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खेल करे पैसा मिले,
खेल करे पैसा मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ताशीर
ताशीर
Sanjay ' शून्य'
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
shabina. Naaz
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
वजीर
वजीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
Paras Nath Jha
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
टेलीफोन की याद (हास्य व्यंग्य)
टेलीफोन की याद (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
आचार संहिता
आचार संहिता
Seema gupta,Alwar
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...