Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2023 · 2 min read

वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प

वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प्रेम, समर्पण और कठिनाइयों के साथ टिकने की कहानी है।

वक्त पर एक महान लेखक ने कहा है, “वक्त सब कुछ बहा देती है, प्रेम, धन, स्थान, सम्मान, सब कुछ।” वक्त की पहचान नहीं होती है, इसका हमेशा ही अनुभव होता है। जब वक्त बदलता है, जीवन में भी बदलाव होता है।

वक्त के साथ हमेशा ठान-बैठन करना मुश्किल हो जाता है। परिवार, दोस्त, प्रेमी, सब बदल जाते हैं, जब वक्त बदलता है। जीवन में नए मौके, नए संघर्ष, नई सफलता और नयी दिक्कतें आती हैं। यहाँ किसी को रास्ता नहीं देखता, सब अपनी चाहते, सपने और अपेक्षाएं लेकर चलता है।

वक्त को हमेशा लोग निजात पाने का अवसर समझते हैं। पर जब वक्त अच्छा न रहे, तो वही लोग सबसे ज्यादा परेशान होने लगते हैं। वक्त अच्छा हो या बुरा, यह हमेशा आगे बढ़ाता है। इसलिए, हर कोई वक्त के साथ चलने की कला सीखनी चाहिए।

वक्त की कहानी में स्वतंत्रता और स्वावलंबन भी बहुत जरूरी होता है। हमेशा वक्त की हस्ती से दबाव में रहने के बजाय, हमें अपनी दिशा और सपनों की प्राथमिकता पर ध्यान देना चाहिए। जब वक्त की कठिनाइयों से लड़ने की कोशिश करते हैं, तो हमारी मेहनत और समर्पण हमें सफलता की ऊंचाइयों तक ले जाते हैं।

वक्त के साथ आपकी मुसीबतें और परेशानियाँ कम हो सकती हैं, पर आपके संघर्ष की उम्मीद बनी रहेगी। इसलिए, वक्त की कहानी से सीखे, सपनों की ख्वाहिशें जीने का मजा लें, समय का मूल्य समझें और अपनी क्षमताओं का उपयोग करना सीखें। वक्त की कहानी जीने का नया तरीका सिखाती है और हमको आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है।

कार्तिक नितिन शर्मा

1 Like · 279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
Ranjeet kumar patre
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
"चढ़ती उमर"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
shri rahi Kabeer
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
अकेले हुए तो ये समझ आया
अकेले हुए तो ये समझ आया
Dheerja Sharma
बारिश
बारिश
Sushil chauhan
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
क्या पता मैं शून्य न हो जाऊं
The_dk_poetry
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
Loading...